Breaking News

वीडियो में कोरोना वैक्सीन का इंजेक्शन लगवाती दिख रही लड़की रूस के राष्ट्रपति की बेटी नहीं है, असल में वीडियो पिछले माह हुए ह्यूमन ट्रायल का है

क्या वायरल : सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें एक लड़की इंजेक्शन लगवाती दिख रही है। दावा किया जा रहा है कि यह लड़की कोई और नहीं बल्कि रूस के राष्ट्रपति की बेटी हैं।

  • चूंकि वीडियो में इंजेक्शन लगवा रही लड़की और इंजेक्शन लगा रहा हेल्थ वर्कर, दोनों ही मास्क पहने हैं। अधिक संभावना है कि घटना कोरोना काल की ही है। यही वजह है कि लोग सोशल मीडिया पर किए जा रहे दावे को सच मानकर वीडियो शेयर कर रहे हैं।
  • मंगलवार को रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने घोषणा कि कि रूस ने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बना ली है। और इस वैक्सीन को देश मे रजिस्टर्ड भी करा लिया गया है। व्लादिमीर पुतिन ने यह भी बताया कि वैक्सीन का पहला इंजेक्शन उन्होंने अपनी दो बेटियों में से एक को लगवाया है। और वह और अच्छा महसूस कर रही है। रूसी राष्ट्रपति की इस घोषणा के बाद से ही सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल होने लगा।

वायरल वीडियो

सोशल मीडिया पर वीडियो को लेकर किए जा रहे दावे

## ## ##

फैक्ट चेक पड़ताल

  • दैनिक भास्कर की वेबसाइट पर रूस में कोरोना की पहली वैक्सीन बनने से जुड़ी 11 अगस्त की खबर है। इसमें यह जिक्र भी है कि पहला टीका राष्ट्रपति की बेटी को लगा है। लेकिन, टीका लगते हुए कोई वीडियो नहीं है। ( यहां पढ़ें पूरी खबर)
  • हमने इंटरनेट पर रूस की कोरोना वैक्सीन से जुड़ी सभी प्रमुख खबरें चेक कीं। इन खबरों से यह पुष्टि तो होती है कि रूस के राष्ट्रपति की बेटी को ही कोरोना वैक्सीन का पहला टीका लगा है। लेकिन, किसी भी खबर के साथ हमें वो वीडियो नहीं मिला। जो सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है।
  • रूस के दूतावास ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से कोविड-19 वैक्सीन से जुड़े कई अपडेट दिए हैं। लेकिन, वैक्सीन के पहले डोज का कोई वीडियो जारी नहीं किया है।
## ##
  • रूस की सरकार या राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से भी बीते दो दिनों में ऐसा कोई वीडियो जारी नहीं किया गया है।
## ##
  • वीडियो के स्क्रीनशॉट को रिवर्स सर्च करने से यूट्यूब पर 25 जून, 2020 का एक वीडियो हमें मिला। वीडियो का बैकग्राउंड भी वही है और लड़की भी वही है, जो वायरल वीडियो में इंजेक्शन लगवाती दिख रही है। डिस्क्रिप्शन से पता चलता है कि लड़की का नाम नटालिया है। वे एक वॉलेंटियर हैं, जिन्होंने कोविड-19 वैक्सीन के ट्रायल में हिस्सा लिया था। चूंकि वीडियो 25 जून, 2020 का है, इसलिए स्पष्ट है कि इसका रूस द्वारा 11 अगस्त को लॉन्च की गई कोरोना वैक्सीन से कोई संबंध नहीं है। हालांकि वीडियो के डिस्क्रिप्शन से स्पष्ट नहीं हो रहा कि ये किस देश का है।
  • वीडियो के डिस्क्रिप्शन में लिखा है कि वॉलेंटियर नटालिया Kirov Military Medical Academy के कैडेट का हिस्सा हैं। और वे सेना में जाकर देश की सेवा करना चाहती हैं। गूगल सर्च करने से हमें पता चला कि इस नाम की एकेडमी रूस में ही है। इससे क्लू मिला कि वीडियो भले ही पुराना हो, लेकिन रूस में ही पिछले दिनों हुए ट्रायल का हो सकता है।
  • अब हमने अलग-अलग कीवर्ड से रूस में हुए वैक्सीन के ट्रायल्स से जुड़ी खबरें सर्च कीं। एक अन्य वेबसाइट पर भी हमें यही वीडियो मिला। जिस आर्टिकल के साथ यह अपलोड किया गया है, उससे स्पष्ट हो रहा है कि वीडियो रूस में हुए वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल का है। और जिस लड़की को टीका लग रहा है, उसका नाम नटालिया है।
  • 13 जुलाई को रूस की कोरोना वैक्सीन के दूसरे चरण के ट्रायल शुरू हुए थे। वीडियो तभी का है। Gamaleya Center के एक्सपर्ट्स ने Burdenko Main Military Hospital में वॉलेंटियर्स को वैक्सीन का टीका लगाया था। वैक्सीन के ट्रायल का पिछला चरण इससे ठीक 3 सप्ताह पहले हुआ था।
  • दैनिक भास्कर की खबर के अनुसार रूसी राष्ट्रपति पुतिन की दो बेटियां हैं, मारिया और कैटरीना। यानी उनकी नटालिया नाम की कोई बेटी नहीं है।

निष्कर्ष : वायरल हो रहा वीडियो रूस की कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल का है। इसमें वैक्सीन का इंजेक्शन लगवाती दिख रही लड़की रूसी राष्ट्रपति की बेटी नहीं है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Fact Check: The girl seen injecting the corona vaccine in the video is not the daughter of the President of Russia, in fact this video is from the human trial last month


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2XRJaIt

No comments