Breaking News

कोरोना वैक्सीन ट्रैकरः रूस और चीन के वैक्सीन अप्रूव हुए; भारतीय वैक्सीन को क्यों लग रही है देर; हमें कब से मिलने लगेगा वैक्सीन?

न चीन को किसी की परवाह है और न ही रूस को। दोनों ही ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) या अंतरराष्ट्रीय आलोचनाओं की परवाह किए बिना अपने वैक्सीन अप्रूव कर दिए हैं। चीन ने कैनसिनो बायोलॉजिक्स के वैक्सीन को लिमिटेड इस्तेमाल के लिए अप्रूव किया है और चीनी मिलिट्री के लिए यह उपलब्ध है। वहीं, रूस ने एक कदम आगे बढ़ते हुए गामालेया रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैक्सीन को सबके लिए अप्रूव कर दिया। दोनों वैक्सीन अभी फेज-3 की टेस्टिंग के दौर से गुजर रहे हैं। अब तक पूरी तरह इफेक्टिव और सेफ भी साबित नहीं हुए हैं।

वहीं, कोरोना संक्रमण की बढ़ती दर के साथ दुनिया के टॉप-3 देशों में शामिल भारत में कोरोना वैक्सीन तो बन गए हैं। लेकिन इस्तेमाल के लिए साल के अंत तक उपलब्ध होंगे। भारत में वैक्सीन के लिए देर क्यों लग रही है? और भारत में कब तक मिलने लगेगा इफेक्टिव और सेफ वैक्सीन?

सबसे पहले बात, रूस के वैक्सीन की...

  • रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 11 अगस्त को ऐलान किया कि गामालेया इंस्टीट्यूट ने रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर जो कोरोना वैक्सीन (Gam-Covid-Vac Lyo) बनाई है, उसे रजिस्टर कर लिया गया है।
  • रूस ने इस वैक्सीन को जनता के इस्तेमाल के लिए मंजूर की गई दुनिया की पहली वैक्सीन के तौर पर पेश किया है। सितम्बर से इसका उत्पादन शुरू होगा और अक्टूबर से आम लोगों को वैक्सीन लगाने की शुरुआत होगी।
  • पुतिन की बेटी ने भी वैक्सीन लगवाया है। रूसी राष्ट्रपति के मुताबिक यह वैक्सीन दो डोज का है। पहला डोज लगाने पर बेटी को बुखार आया था लेकिन अगले दिन वह सामान्य हो गई। दूसरे डोज के समय भी ऐसा ही हुआ।
  • वैक्सीन से शरीर में बने एंटीबॉडी दो साल तक कोरोनावायरस से सुरक्षित रखते हैं। गामालेया इंस्टिट्यूट के वैज्ञानिकों की माने तो यह वैक्सीन पूरी तरह से सेफ और इफेक्टिव है। पैरासिटामॉल से बुखार को काबू किया जा सकता है।
  • रूस में सबसे पहले चिकित्सा कर्मचारियों, शिक्षकों और अन्य रिस्क ग्रुप के लोगों को वैक्सीन लगाया जाएगा। डिप्टी प्राइम मिनिस्टर तात्याना गोलीकोवा ने कहा कि डॉक्टरों का वैक्सीनेशन इसी महीने शुरू हो जाएगा।

रूस ने इतनी जल्दी कैसे बना लिया वैक्सीन?

  • गामालेया इंस्टिट्यूट ने जून में यह वैक्सीन तैयार कर ली थी। फेज-1 ट्रायल भी शुरू कर दिए थे। रूसी वैक्सीन में ह्यूमन एडेनोवायरस Ad5 और Ad26 का इस्तेमाल किया है। दोनों को कोरोनावायरस जीन से इंजीनियर किया है।
  • कोरोनावायरस का प्रकोप बढ़ने लगा था तब व्लादिमीर पुतिन प्रशासन ने ड्रग रेगुलेटर से कहकर ट्रायल्स की अवधि घटाई थी। ब्रिटेन और अमेरिका में भी ड्रग रेगुलेटर ने ट्रायल्स के कड़े नियमों में नरमी बरती है।
  • रूसी वैज्ञानिकों ने मर्स और सार्स का वैक्सीन बनाया था। उसमें ही आंशिक फेरबदल किया गया है। वैक्सीन को जल्दी बनाने में लाभ हुआ। दुनियाभर में बन रहे वैक्सीन एक वेक्टर पर निर्भर है जबकि यह दो वेक्टर से बना है।
  • रूस की इस जल्दबाजी के पीछे क्रेमलिन भी है। वह चाहता था कि दुनियाभर में रूस की छवि ग्लोबल पॉवर की बने। सरकारी टीवी स्टेशनों और मीडिया ने भी अन्य देशों को वैज्ञानिकों की तारीफ की और विरोध को बेवजह बताया।

रूसी वैक्सीन में सब इतना अच्छा है तो दिक्कत क्या है?

  • रूसी वैक्सीन के सेफ और इफेक्टिव होने पर शक किया जा रहा है। इसकी वजह है इस वैक्सीन के ट्रायल्स से जुड़ा कोई भी डेटा सामने न होना। इससे यह स्पष्ट नहीं है कि कोई जांच हुई भी या नहीं।
  • गामालेया इंस्टिट्यूट के प्रमुख एलेक्जेंडर गिंट्सबर्ग ने कहा कि वैक्सीनेशन शुरू होगा और इस दौरान फेज-3 ट्रायल्स भी चलते रहेंगे। यूएई और फिलीपींस में भी फेज-3 ट्रायल्स शुरू करने की तैयारी है।
  • आम तौर पर फेज-3 का टेस्ट हजारों लोगों पर होता है। वैक्सीन लगाने के बाद कई महीने निगरानी होती है। डेटा कलेक्शन होता है और उसके बाद नतीजों के विश्लेषण के आधार पर वैक्सीन को मंजूरी दी जाती है।
  • अब तक सिर्फ 10% क्लिनिकल ट्रायल्स सफल हुए हैं। जिस स्पीड से रूस ने दौड़ लगाई है, उससे वैज्ञानिक यह भी कह रहे हैं कि मॉस्को ने वैक्सीन से सेफ्टी को लेकर अपनी छवि दांव पर लगाई है।
  • एसोसिएशन ऑफ क्लिनिकल ट्रायल्स ऑर्गेनाइजेशन ने रूसी हेल्थ मिनिस्ट्री को ट्रायल्स से पहले वैक्सीन रजिस्ट्रेशन टालने का अनुरोध किया था। कहा था कि टेस्ट से पहले ड्रग को मंजूरी देने से जोखिम बहुत बढ़ जाएगा।
  • ट्युएबिंगेन यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में क्योरवेक के वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल कर रहे डॉ. पीटर क्रेमसनर का कहना है कि बिना जांच के वैक्सीन जारी करना खतरनाक हो सकता है। यह लोगों को खतरे में डाल रहा है।
  • लंदन में क्वीन मैरी यूनिवर्सिटी में इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी लॉ प्रोफेसर डंकन मैथ्यूज ने कहा- वैक्सीन स्वागत योग्य है, लेकिन सेफ्टी प्रायरिटी होनी चाहिए। अमेरिकी व यूरोपीय दवा नियामकों ने ट्रायल्स के लिए समय घटाया है, पर सख्त मानक तय किए हैं। देखना होगा कि रूसी मानक किस तरह तय हुए हैं।

ऐसे तो भारत भी जल्दी ला सकता है वैक्सीन?

  • ला तो सकता है। लेकिन लाएगा नहीं। आईसीएमआर के साथ मिलकर स्वदेशी वैक्सीन कोवैक्सीन बना रहे भारत बायोटेक इंटरनेशनल के चेयरमैन कृष्णा ऐल्ला ने कहा कि कंपनी टेस्ट को लेकर जल्दबाजी में नहीं है।
  • ऐल्ला का कहना है कि उन पर वैक्सीन जल्दी बनाकर देने के लिए बहुत दबाव है। लेकिन सेफ्टी और क्वालिटी सबसे ऊपर है। कंपनी गलत वैक्सीन जारी कर ज्यादा लोगों को मौत के घाट नहीं उतारना देना चाहती।
  • कंपनी बेस्ट क्वालिटी की वैक्सीन बनाना चाहती है। उसे पूरा भरोसा है कि कोवैक्सीन एक इनएक्टिवेटेड वैक्सीन है और ऐसे वैक्सीन का रिकॉर्ड अच्छा है और यह SARS-CoV-2 (कोरोनावायरस) के खिलाफ इफेक्टिव होगा।
  • ऐल्ला का कहना है कि हम पर अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों और कम्युनिटी की नजर है। हम रिसर्च में कोई कमियां नहीं छोड़ना चाहते और हम बेस्ट क्वालिटी की वैक्सीन बनाने पर फोकस है।
  • ऐल्ला ने कहा- भारतीय इंडस्ट्री यूरोप या अमेरिकी कंपनियों से कम नहीं है। टेक्नोलॉजी और क्लिनिकल रिसर्च के मामले में तो चीन से बहुत आगे है। भारत बायोटेक ने कुछ साल पहले 1 डॉलर में रोटावायरस वैक्सीन निकाला था जबकि जीएसके ने कीमत रखी थी 85 डॉलर।
  • वहीं, दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ने भी ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के वैक्सीन कैंडीडेट के बड़े पैमाने पर उत्पादन की तैयारी शुरू कर दी है। इसका बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन सितंबर से शुरू होने की उम्मीद है।
कोरोनावायरस वैक्सीन को लेकर देश-दुनिया में हो रहे प्रयोगों के अपडेट्स देने का प्रयास आपको अच्छा लगा हो तो इस फोटो को दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Corona Vaccine Tracker: Russia and China Vaccine Approved; Why the Indian vaccine is getting delayed; When will we get the vaccine


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2FkTr9G

No comments