Breaking News

सेंट्रलाइज्ड एसी से वायरस का खतरा कितना? एक्सपर्ट का जवाब - यह एक ही हवा बार-बार फेंकता है,संक्रमण रोकने के लिए बाहर से फ्रेश हवा आना जरूरी

सेंट्रलाइज्ड एसी से वायरस का खतरा कितना? एक्सपर्ट का जवाब - यह एक ही हवा को बार-बार फेंकता है, बाहर से फ्रेश हवा अंदर आना जरूरीएसी से वायरस का खतरा कितना है, फेसशील्ड व हेड गियर कब लाना जरूरी और क्या मेटल को साबुन से धोने पर कोरोना को खत्म किया जा सकता है, ऐसे कई सवालों के जवाब लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली के निदेशक डॉ. मधुर यादव ने आकाशवाणी को दिए। जानिए कोरोना से जुड़े सवाल और एक्सपर्ट के जवाब...

#1) सेंट्रलाइज्ड एसी से वायरस का कितना खतरा है?
सेंट्रल एसी, एक ही हवा को बार-बार कमरे के अंदर-बाहर फेंकता रहता है, इसलिए अस्पतालों में एसी बंद कर दिए गए हैं। लेकर अगर घर में एसी चल रहे हैं तो जरूरी है कि फ्रेश हवा अंदर आए और एसी की हवा बाहर न जाए, ऐसा होना चाहिए। ध्यान रखें कि घर में कोई वायरस से संक्रमित न हो। इसके अलावा अगर आप कार से बाहर जा रहे हैं तो खिड़की का शीशा एक चौथाई तक खोलकर एसी चला सकते हैं। इससे फ्रेश हवा अंदर आती रहेगी।
#2) क्या प्लास्टिक, लोहे, एल्युमिनियम की चीजों को साबुन से धोने पर वायरस खत्म हो सकता है?
जी हां, अगर बाहर से ऐसा कोई सामान लेकर आ रहे हैं तो उसे साबुन पानी से जरूर साफ कर लें। जिस तरह हाथ साबुन पानी से 20 सेकंड धोने को कहा गया है, उसी तरह चीजों को भी साबुन-पानी या सैनेटाइजर से साफ करें। इससे वायरस नष्ट हो जाएगा।
#3) ऑफिस या बाहर कहीं जा रहे हैं तो क्या फेसशील्ड और हेड गियर लगाना जरूरी है?
नहीं, ये हर इंसान के लिए जरूरी नहीं है। यह केवल स्वास्थ्यकर्मियों के लिए है जो संक्रमित लोगों के बीच रहते हैं और आईसीयू में काम करते हैं। ऐसी जगह जहां कोई बहुत खांसता है, छींकता है, उस जगह पर पहन सकते हैं। हालांकि अगर कोई एहतियात के तौर पर पहनना चाहता है तो पहन सकता है लेकिन ट्रिपल लेयर मास्क सबके लिए जरूरी है।

#4) क्या रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की कोई दवा है?
कई अलग-अलग दवाएं हैं, जिनको लेकर रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का दावा किया जाता है लेकिन अगर आप घर का बना संतुलित खाना और पूरी नींद लेते हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ती है। इसके अलावा आयुष मंत्रालय के दिशा निर्देशों का पालन कर सकते हैं।
#5) कोरोनावायरस का संक्रमण कब खत्म होगा?

कोरोनावायरस इतनी जल्दी नहीं जाएगा। ये वायरस अब जिंदगी का हिस्सा बन चुका है। अगर सावधानी नहीं बरतेंगे तो इसका संक्रमण बार-बार हो सकता है। इससे ज्यादा अभी कुछ नहीं कह सकते क्योंकि वैक्सीन पर अब भी शोध चल रहे हैं। हां, इसमें मौत का खतरा तब ज्यादा है जब कोई बुजुर्ग इसकी चपेट में आ जाता है। या ऐसा कोई इंसान जो पहले ही किसी पुरानी बीमारी से परेशान है, इसलिए हमेशा सावधानी रखनी है।

#6) लॉकडाउन के दौरान ढील में बाहर जाएं तो क्या सावधानी रखें?
जब तक जरूरी न हो, घर से बाहर न जाएं। किसी काम से जा रहे हैँ और अगर आपको लगता है कि आप किसी ऐसे इंसान के सम्पर्क में आए हैं जो बीमार है या भीड़ में गए हैं तो घर आकर तुरंत कपड़े बदलें और नहाएं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Coronavirus Transmission/Centralized AC Updates; COVID-19 Frequently Asked questions (FAQ) In Hindi


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2LL1AEo

No comments