Breaking News

महामारी के बाद भी मर्द मानते हैं कि मास्क उनके लिए कमजोरी की निशानी और कोरोनावायरस का संक्रमण उन्हें नहीं होगा

महिलाओं के मुकाबले पुरुष मास्क लगाना कम पसंद करते हैं। उनका मानना है कि यह कमजोरी की निशानी है। अमेरिका में 2500 लोगों पर कोरोना से जुड़े एकशोध में यह बात सामने आई है। शोध में शामिल 8 फीसदी पुरुष और 5 फीसदी महिलाएं मानती हैं कि वह जब भी बाहर जाएंगे तो मास्क नहीं लगाएंगे। पुरुषों सेऐसे जवाब तब मिले हैं जब आंकड़े और शोध, दोनों बता रहे हैं कि महिला से अधिक पुरुषों को कोरोनावायरस का खतरा है।

खुद को सुरक्षित मान रहे

  • यह रिसर्च अमेरिका की मिडिलसेक्स यूनिवर्सिटी ने कराई है। शोधकर्ता का कहना है कि पुरुषों में मास्क लगाने और बीमारी से बचाव का अधिक क्रेज नहीं देखागया। उनका मानना है कि महिलाओं के मुकाबले वह ज्यादा सुरक्षित हैं।
  • शोधकर्ता डॉ. कैपरारो और गणितज्ञ हेलेन बार्सिलो ने अमेरिका के 2459 युवाओं पर सर्व किया। इसमें 1266 पुरुष और 1183 महिलाएं शामिल थीं। वहीं, 10 ऐसे लोग भी सर्वे में शामिल हुए थे जिन्होंने अपने जेंडर की जानकारी नहीं साझा की।
  • रिसर्च में शामिल युवाओं को सवाल के जवाब में 0 से 10 तक रेटिंग करनी थी। उनसे पूछा गया कि बाहर जाते समय मास्क लगाएंगे, मास्क लगाने के बाद वह कैसा महसूस करते हैं, क्या यह उन्हें कूल, शर्मनाक, कमजोरी की निशानी लगता है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Even after the epidemic, men believe that masks are a sign of weakness for them and they will not have coronavirus infection


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2WG4JLI

No comments