Breaking News

घर पर फेसमास्क साफ करने के 4 तरीके, साबुन, प्रेशर कुकर और इस्त्री की मदद से इसे दोबारा इस्तेमाल करने लायक बनाएं

मास्क को दोबारा इस्तेमाल कैसे करें और घर पर इसकी धुलाई कैसे करे, इसे समझाने ने केंद्र सरकार के ऑफिशियल कोरोना विशेष ट्विटर हैंडल#IndiaFightsCorona से एक वीडियोजारी किया गया है। वीडियो में बताया गया कि कई तरह से फेसमास्क को घर पर साफ करके दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है।


फेस मास्क धोने के 4 तरीके

  • गर्म पानी से धोएं : मास्क को साबुन और गर्म पानी से धोएं। अब इसे धूप में कम से कम 5 घंटे तक सूखने के लिए छोड़ दें।
  • धूप नहीं तो प्रेशरकुकर का इस्तेमाल करें : पानी में नमक मिलाएं। करीब 15 मिनट तक गर्म पानी या प्रेशर कुकर में मास्क डालकर उबालें। अब उसे सूखने केलिए छोड़ दें।
  • इस्त्री का उपयोग भी कर सकते हैं: अगर प्रेशर कुकर नहीं है तो मास्क को साबुन से धोएं। इसे सुखाने के लिए इस्त्री का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • डिस्पोजेबल मास्क न उबालें : कभी भी डिस्पोजेबल मास्क को न उबालें और न ही साफ करें। उसके अंदर ऐसे कई तत्व होते हैं जो धुलाई से खराब हो सकते हैं।

कौन सा मास्क वायरस से कितना बचाव करता है

N95 मास्क

यह कोरोनावायरस जैसे संक्रमण से बचाव के लिए सबसे बेहतर मास्क है। यह आसानी से मुंह और नाक पर फिट हो जाता है और बारीक कणोंको भी नाक या मुंह में जाने से रोकता है। यह हवा में मौजूद 95 प्रतिशत कणों को रोकने में सक्षम है इसलिए इसका नाम N95 पड़ा है।कोरोनावायरस के कण डायमीटर में 0.12 माइक्रॉन जितने होते हैं, जिसकी वजह से यह काफी हद तक मदद करता है। यह बैक्टीरिया, धूल औरपरागकणों से 100 फीसदी बचाता है।

सर्जिकल मास्क

N95 मास्क उपलब्ध न होने पर यह बेहतर विकल्प है। यह वायरस से 95 फीसदी बचाव करता है। वहीं बैक्टीरिया, धूल और परागकणों से 80फीसदी तक सुरक्षा देता है। ये ढीले फिटिंग वाले होते हैं, इसलिए जब भी इसे लगाएं अच्छे से नाक और मुंह को कवर करें।


FFP मास्क

यह मास्क तीन कैटेगरी में उपलब्ध है। FFP1, FFP2 और FFP3, इसमें FFP3 सबसे बेहतर है। यह अतिसूक्ष्म कणों से बचाता है। FFPमास्क वायरस से 95 फीसदी और बैक्टीरिया-धूल-परागकणों से 80 बचाव करता है।

एक्टिवेट कार्बन मास्क

इसका इस्तेमाल आमतौर पर गंध रोकने के लिए किया जाता है। यह वायरस से बचाव करने में नाकाफी है क्योंकि महज 10 फीसदी तक हीसुरक्षा देता है। वहीं, बैक्टीरिया, धूल और परागकणों को रोकने में 50 फीसदी ही बचाव करता है


कपड़े वाला मास्क

यह वायरस से बचाव नहीं करता। न ही विशेषज्ञ इसे लगाने की सलाह देते हैं। आमतौर पर लोग इसे घर पर ही बनाते हैं। यह बैक्टीरिया, धूलऔर परागकण से 50 फीसदी ही बचाव करता है। इसे एक बार इस्तेमाल करने के बाद डिस्पोज करना बेहद जरूरी है।

स्पंज मास्क

यह मास्क वायरस से बिल्कुल नहीं बचाता। बैक्टीरिया और धूल से महज 5 फीसदी ही बचाव करता है। एक्सपर्ट भी इसे लगाने की सलाह नहींदेते।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
How to Clean Face Mask | Ways to Properly Clean Coronavirus Face Masks


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2RICcCE

No comments